Ax+/URN0bKYQzZP4Oo66EypEV6M8gNhoWNw4HsDBo/2yNB6vIAjyBw== SukhwalSamajUdaipur: मीनाक्षी मंदिर ,कन्याकुमारी एवं रामेश्वरम की यात्रा

मीनाक्षी मंदिर ,कन्याकुमारी एवं रामेश्वरम की यात्रा

मीनाक्षी मंदिर ,कन्याकुमारी एवं रामेश्वरम की यात्रा -

मदुराई का मीनाक्षी मंदिर - 

अति सुन्दर एवं भव्य मदिर हैं। मदुरई के राजा मलयध्वज निसंतान थे। संतान प्राप्ति हेतु घोर तपस्या की इससे उनकी पत्नी को पुत्री का जन्म हुआ जिसका नाम मीनाक्षी रखा गया। भगवान शिव सुन्दर रूप धारन कर मीनाक्षी से विवाह करने हेतु पृथ्वी पर प्रकट हुए और मीनाक्षी देवी से विवाह का प्रस्ताव रखा। मीनाक्षी देवी ने प्रस्ताव स्वीकार किया। इस विवाह को विश्व की बड़ी घटना मानी गयी। इस विवाह में सभी देवी देवता मदुरई में आये। आज भी अप्रेल माह में मदुरई में 10 दिन तक मीनाक्षी तिरुकल्याणम महोत्सव मनाया जाता हैं। मंदिर 45 एकड़ में फेला 3500 साल पुराना हैं। मंदिर के बहार चारो दिशाओ में चार विशाल टावर बने हुए हैं। मंदिर में आप भटक कर रास्ता भूल सकते हैं।मुख्य  प्रवेश द्वार 50 मीटर ऊँचा है। तीन टावर एवं प्रवेश द्वार पर देवी देवताओं की प्रतिमाए बनी हुई हैं।मंदिर के अंदर ही प्रसाद की दुकाने हैं। अंदर सरोवर में स्वर्ण कमल बना हैं जिसकी परिक्रमा लगा कर ही देवी का दर्शन किया जाता हैं। यह मंदिर अद्भुत कला का नमूना हैं। गर्भगृह में माता पार्वती एवं भगवान शिव के दर्शन होंगे। यहाँ सुन्दर शिवलिंग हैं। Jetairways [CPS] WW
http://www.maduraimeenakshi.org/
Meenakshi Temple . Pearland,Texas USA






कन्याकुमारी -

Image result for free image of vivekananda smarak kanyakumari
त्रिवेंद्रम से कन्याकुमारी 80 KM हैं। कन्याकुमारी तमिलनाडु राज्य  में समुन्द्र के किनारे बसा हुआ हैं। यहाँ हिन्द महासागर ,अरबसागर एवं बंगाल की खाड़ी तीनो का संगम हैं। यहाँ समुन्द्र के मध्य बना विवेकानंदजी का स्मारक इस कन्याकुमारी की विशेष पहचान हैं। यहाँ से सूर्य उदय एवं अस्त होने का  दृश्य देखने लोग आते हैं। यहाँ कन्याकुमारी माता का मदिर विवेकानंदजी स्मारक के घाट के पास हैं। यहाँ भी लोग दर्शन करते हैं। मदुरई से कन्याकुमारी की दूरी 245 KM हैं। 



रामेश्वरम -Link